Didnt know this side of me :)

Inspired by a friend’s picture‘s…I found a new me!!

I’d love to Welcome me back!!

Aasmaani chaadar oodhe nihaarta hoon apni manzil…
Jab thak jaata hoon toh kured leta hoon paairon ke ghaav…
Raahi hoon chalte jaana hai….
Kush bhi hoon udhaas bhi hoon…

आसमानी चादर ओढ़े निहारता हूँ अपनी मंजिल
जब थक जाता हूँ तो कुदेद लेता हूँ पैरों के घाव
राही हूँ चलते जाना हाही
खुश भी हूँ उदास भी हूँ

Ek waqt tha jab main haseen tha,
Kamsin kaliyon ke beech mera vatan tha,
Ek jhonka aisa aaya ki sapna bikhar gaya,
Ab main hoon, vatan hai aur gard bhi!

एक वक्त था जब मैं हसीं था
कमसीन कलियों के बीच मेरा वतन था
एक झोंका ऐसा आया की सपना बिखर गया
अब मैं हूँ, वतन है और गर्द भी.

Pragati ke nishaan ki parchaayi hoon, Dil ki dhadkan ki shehnahi hoon.
Vida ho rahi hai meri pehchaan mujh se, kambakth keta hai main saudai hoon.

प्रगति के निशाँ की परछाई हूँ, दिल की धड़कन की शेहनाई हूँ
विदा हो रही है मेरी पहचान मुझ से, कमबख्त कहता है मैं सौदाई हूँ

do aakhon ke beech hai faasla jitna,
tera faisla mujh se milne ka hai kamzor utna

दो आखों के बीच है फासला जितना

तेरा फैसला मुझसे मिल्लने का है कमज़ोर उतना

Kaash waqt itna naainsaaf naa hota,
Paimane mein gaya ghar ka khwab naa hota,
Aaj bhi khade hain yahin,
Naa raasta naa rahi naa shauk naa syahi 🙂

काश वक्त इतना नाइंसाफ न होता

पैमाने में गया घर का ख्वाब न होता

आज भिखादे है यही

ना रास्ता न राही न शौक न स्याही

akele hone se darta nahi hoon,
Tanhai saath de hi deti hai.
Chaahat hai itni ki kya kahoon,
har Ek lafz ko tumhare dil se lagai baitha hoon 🙂

अकेले होने से डरता नहीं हूँ

तन्हाई साथ दे ही देती है

चाहत है इतनी की क्या कहूं

हर एक लफ्ज़ को तुम्हारे दिल से लगाए  बैठा  हूँ

Rishte sambhaal aey saaqi, gaanth naa pad jaaye.
Sambhaalna meh ko kahin Paimane se jaam rooth naa jaaye 🙂

रिश्ते संभाल आए साकी, गाँठ न पद जाए,

संभालना मय को कही पैमाने से जाम रूठ ना जाए

kuch safed baadal poochane chale unka pata…
kaafila bhi tha saath par yeh hai mera safar tanha 🙂

कुछ सफ़ेद बादल पूछने चले उनका पता

काफिला भी था साथ पर यह है मेरा सफ़र तनहा

Tumne manzil dekhi, raahi nahi. Humne raah dekhi aur raah ke dhundhle saaye bhi 🙂

तुमने मंजिल देखि राही नहीं… हमने राह देखि और राह के धुन्दले साए भी

Advertisements

4 thoughts on “Didnt know this side of me :)

  1. Now you’re also a poet, and I won’t make the lame joke about knowing it 😛

    Good work kiya hai ji aapne 🙂

  2. ओसोम है कविता. मेरे दिल को भा गयी. सच्ची मुच्ची. केवल एक ही प्रार्थना है. कृपया इसे हिंदी में पुब्लिश करे. 🙂 आये दिन्त क्नोव थिस साइड ऑफ़ यू इदर.

Leave a Reply

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out / Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out / Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out / Change )

Google+ photo

You are commenting using your Google+ account. Log Out / Change )

Connecting to %s